भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध Essay on Indian Agricultural System

भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध Essay on Indian Agricultural System

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत - बहुत स्वागत है, इस लेख भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध ( Essay on Indian Agricultural System) में।

दोस्तों इस लेख के माध्यम से आप भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध पड़ेंगे। यह निबंध कक्षा 5 से 12 वीं और उच्च कक्षाओं में अक्सर पूँछा जाता है, यहाँ से आप भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध लिखने का आईडिया भी ले सकते है। तो आइये शुरू करते है यह लेख भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध:-


इसे भी पढ़े:- भारतीय किसान पर निबंध Essay on Indian Farmer


भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध


भारतीय कृषि प्रणाली क्या है? What is Indian Agricultural System?

भारतीय कृषि प्रणाली छोटे खेतों और भूमि जोत की एक प्रणाली है जो सदियों से चली आ रही है। यह विविधता की एक उच्च डिग्री की विशेषता है, जिसमें फसलों और पशुओं की एक विस्तृत श्रृंखला को उठाया जाता है। भारत दुनिया का दूसरा

सबसे अधिक आबादी वाला देश है, और इसकी कृषि प्रणाली देश की विशाल आबादी का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। भारत की अधिकांश आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है और अपनी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर है।

भारतीय कृषि प्रणाली अत्यधिक कुशल है, अधिकांश खेतों के छोटे आकार के बावजूद विभिन्न प्रकार की फसलों और पशुधन का उत्पादन करती है। यह विविधता यह सुनिश्चित करने में मदद करती है

कि अकाल या अन्य प्राकृतिक आपदाओं के समय में भी देश की खाद्य आपूर्ति सुरक्षित है। बड़ी संख्या में विभिन्न फसलों और जानवरों को पाले जाने के कारण यह प्रणाली कीटों और बीमारियों के लिए भी अपेक्षाकृत लचीला है।

अपनी अनेक शक्तियों के बावजूद, भारतीय कृषि प्रणाली को महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। देश की तेजी से बढ़ती आबादी कृषि योग्य भूमि की पहले से ही सीमित मात्रा पर दबाव डाल रही है,

और जलवायु परिवर्तन तेजी से अनिश्चित मौसम पैटर्न पैदा कर रहा है जो फसलों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके अलावा, कई छोटे किसानों के पास आधुनिक तकनीक और इनपुट तक पहुंच नहीं है, जो उनकी उत्पादकता को सीमित करता है।

भारतीय कृषि प्रणाली देश की अर्थव्यवस्था और संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह क्षेत्र, जो कार्यबल के एक बड़े अनुपात को रोजगार देता है, सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का एक तिहाई और कुल रोजगार का दो-तिहाई हिस्सा है।

भूमिहीनता के कारण, कई किसान मौसमी रूप से खेतिहर मजदूर के रूप में काम करते हैं। भारत का कृषि क्षेत्र भी उल्लेखनीय है क्योंकि यह अन्य देशों से प्रचुर मात्रा में भोजन के आयात के बावजूद देश की खाद्य आपूर्ति का एक बड़ा हिस्सा पैदा करता है।

यह आंतरिक उपभोग के साथ-साथ निर्यात के लिए बड़ी संख्या में विभिन्न फसलों और जानवरों के उत्पादन में भारतीय कृषि की अनूठी ताकत के कारण है।

भारत को कई अलग-अलग कृषि-जलवायु क्षेत्रों में विभाजित किया जा सकता है। 2001 में 190 मिलियन जानवरों के साथ भारत में मवेशियों की सबसे बड़ी आबादी है। यह चार पारंपरिक ज़ेबू नस्लों का घर है: कांकरेज मुंडी, लाल सिंधी और गिर।


भारतीय कृषि प्रणाली में जल सुविधा Water facility in Indian farming system

पानी किसी भी कृषि प्रणाली के लिए आवश्यक है और भारत में पानी की उपलब्धता एक बड़ी चुनौती है। भारतीय कृषि प्रणाली को इस चुनौती से निपटने के लिए डिजाइन किया गया है।

इस प्रणाली में कई सिंचाई योजनाएं शामिल हैं जो किसानों को अपने खेतों की सिंचाई करने में मदद करती हैं। ये योजनाएं भारतीय कृषि की उत्पादकता बढ़ाने में सफल रही हैं।

इस प्रणाली का उद्देश्य स्वावलंबी होना है, लेकिन पानी की आपूर्ति एक चुनौती रही है। कुछ क्षेत्रों में, किसानों ने सिंचाई के वैकल्पिक स्रोत के रूप में भूजल की ओर रुख किया है।


भारतीय कृषि प्रणाली के लाभ Advantages of Indian Agricultural System

भारतीय कृषि प्रणाली न केवल दुनिया में सबसे पुरानी है, बल्कि सबसे कुशल भी है। सिंधु घाटी सभ्यता के समृद्ध इतिहास के साथ, भारत सहस्राब्दियों से कई विभिन्न कृषि तकनीकों को पूर्ण करने में सक्षम रहा है।

परिणाम एक ऐसा देश है जो विभिन्न प्रकार की फसलों का उत्पादन करने में सक्षम है, और जो खाद्य उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर है।

भारतीय कृषि प्रणाली के कई लाभ हैं। सबसे पहले, यह भूमि उपयोग के मामले में बेहद कुशल है। भारत की आबादी 1 अरब से अधिक है, लेकिन केवल 3% भूमि का उपयोग कृषि के लिए किया जाता है। इसका मतलब है कि बहुत कम बर्बादी होती है और जमीन के हर हिस्से को उसकी पूरी क्षमता के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

दूसरे, भारतीय कृषि प्रणाली अत्यंत विविध है। भारत चावल, गेहूं, मक्का, दालों और सब्जियों सहित कई प्रकार की फसलें उगाता है। इस विविधता का मतलब है कि खाने के लिए हमेशा कुछ न कुछ होता है, चाहे मौसम या मौसम कुछ भी हो।

तीसरा, भारतीय कृषि प्रणाली बहुत टिकाऊ है। क्योंकि यह हजारों वर्षों में सिद्ध किया गया है, यह कीटनाशकों या अन्य हानिकारक रसायनों के रूप में बहुत कम उपयोग करता है। यह सुनिश्चित करता है कि उत्पादित भोजन स्वस्थ और स्वादिष्ट हो।

अंत में, सिस्टम बहुत लचीला है। यदि एक फसल अकाल या संक्रमण के कारण खराब हो जाती है, तो उसकी भरपाई के लिए हमेशा दूसरी फसल होती है।


भारतीय कृषि प्रणाली की हानियाँ Disadvantages of Indian Agricultural System

भारतीय कृषि प्रणाली संकट में है। वर्षों की उपेक्षा ने अपना असर डाला है, और किसान आधुनिक कृषि की मांगों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। वे अप्रत्याशित मौसम, खराब बुनियादी ढांचे

और बाजारों तक पहुंच की कमी से जूझने को मजबूर हैं। नतीजतन, कई लोग अपनी फसलों को बाजार से कम कीमतों पर बेचने के लिए मजबूर होते हैं, या यहां तक ​​कि उन्हें पूरी तरह से छोड़ भी देते हैं।

भारत के वर्षा सिंचित क्षेत्रों में स्थिति विशेष रूप से विकट है, जहाँ किसान सिंचाई के लिए मानसून पर निर्भर हैं। देश भर में किसानों को अपनी फसल छोड़ने के लिए मजबूर किया गया है, और कई लोगों ने हताशा में आत्महत्या कर ली है।

भारत सरकार ने किसानों की मदद करने का वादा किया है, लेकिन अभी तक समस्या के मूल कारणों को दूर करने के लिए बहुत कम किया गया है। देश को अपने कृषि बुनियादी ढांचे में निवेश करने और बाजारों तक बेहतर पहुंच प्रदान करने की जरूरत है। तभी किसानों को उनकी फसल का वाजिब दाम मिल पाएगा।


भारतीय कृषि प्रणाली की अर्थव्यवस्था में भूमिका Role of Indian Agricultural System in Economy

भारतीय कृषि प्रणाली देश की अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह भारत में दूसरा सबसे बड़ा रोजगार क्षेत्र है,

जिसमें लगभग 54% कार्यबल कृषि और संबद्ध गतिविधियों में लगे हुए हैं। यह क्षेत्र देश के सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 17% योगदान देता है।

भारतीय कृषि प्रणाली देश के विभिन्न हिस्सों में उगाई जाने वाली विभिन्न फसलों के साथ फसल पैटर्न की एक विस्तृत श्रृंखला की विशेषता है। भारत में उगाई जाने वाली मुख्य फसलें चावल, गेहूं, मक्का, दलहन, तिलहन और कपास हैं।

भारत सरकार ने कृषि क्षेत्र को समर्थन देने के लिए कई कदम उठाए हैं। इनमें सिंचाई, बिजली और उर्वरकों के लिए सब्सिडी प्रदान करना शामिल है; कृषि विपणन बोर्डों की स्थापना; और किसानों के लिए फसल बीमा प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) जैसी योजनाएं शुरू करना।


भारतीय कृषि प्रणाली के लिए भारत सरकार की योजनाएँ Government of India Schemes for Indian Agricultural System

भारत सरकार ने भारतीय कृषि प्रणाली का समर्थन करने के लिए कई योजनाएं शुरू की हैं। इन योजनाओं का मुख्य उद्देश्य किसानों की उत्पादकता में सुधार करना और खेती को लाभदायक व्यवसाय बनाना है। सरकार द्वारा शुरू की गई कुछ योजनाएं इस प्रकार हैं:

1. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: इस योजना के तहत किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के खिलाफ उनकी फसलों के लिए बीमा कवर प्रदान किया जाता है।

2. प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना: इस योजना का उद्देश्य किसानों के लिए सिंचाई सुविधाओं में सुधार करना है।

3. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना: इस योजना के तहत छोटे और सीमांत किसानों को प्रति वर्ष 6000 रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

4. प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण: यह योजना किसानों को पक्के मकानों के निर्माण के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है।


निष्कर्ष Conclusion

भारतीय कृषि प्रणाली एक प्रकार की निर्वाह कृषि है और देश के ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक आम है। भारत में एक बड़ी आबादी और भूमि क्षेत्र है, जो इसे खाद्य उत्पादन के मामले में दुनिया के अग्रणी देशों में से एक बनाता है। भारत में उगाई जाने वाली मुख्य फसलें चावल, गेहूं, मक्का, दालें और तिलहन हैं।

भारतीय किसान फसल की उपज बढ़ाने के लिए कई तरह के तरीकों का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें सिंचाई, उर्वरक आवेदन और फसल चक्र शामिल हैं। उचित प्रबंधन और आधुनिक तकनीकों के साथ, देश में भोजन की लगातार बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए भारतीय खेतों से उपज में उल्लेखनीय वृद्धि की जा सकती है।

दोस्तों आपने यहाँ भारतीय कृषि प्रणाली पर निबंध (Essay on Indian Agricultural System) पढ़ा, आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. विज्ञान के चमत्कार पर निबंध Essay on wonder of science
  2. भारत में जल संकट पर निबंध Essay on water crisis in india
  3. जल प्रदूषण पर निबंध Essay on water pollution


from Arya hindi https://ift.tt/rdoBvyR
https://ift.tt/x4WQcDX

If you have any doubts, Please let me know

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post